A Truth…. एक सत्य


नमस्कार
यह बात काफी पुरानी है, उस समय मैं शायद 8-9 साल के आसपास था। हिन्दू परिवार में जन्म होने के कारण मेरे परिवार की गहरी धार्मिक आस्था थी। मेरे पिता जी काफी धार्मिक व्यक्ति थे, जो अमावस्या, पूर्णमी, एकादशी और ऐसे कई दिनों में और त्योहार पर उपवास करते थे। उन्होंने श्राद्ध के धार्मिक अनुष्ठान का भी पालन किया था।
उस समय के दौरान भी मैं कई धार्मिक अनुष्ठानों से अपने आप को नहीं बांध सका। मेरे विचारों और तरीकों ने अंधविश्वासों और धर्मों के अज्ञानी तरीकों को ललकारा। मुझे परिवार में विद्रोही होने के लिए जाना जाता था, और बहुत बार यह दर्द का कारण बनता रहा।
एक श्राद्ध के दौरान हमारे घर एक पुजारी जी आए थे और मेरे पिता धार्मिक प्रक्रिया के अनुसार श्राद्ध कर रहे थे। सुबह के समय था और काफी गर्मी थी। पूरी प्रक्रिया के बाद पुजारी जी और पिता जी घर के कमरे में आए जहां प्रसाद के रूप में भोजन तैयार किया गया था।
शायद यह मेरी किस्मत थी या बदकिस्मती थी कि एक छोटी गौरैया खिड़की से अंदर आई और चलते पंखे से टकरा गई। पंख क्षतिग्रस्त हो गया और वह जमीन पर गिर गई। मैंने छोटी चिड़िया को हाथ में लेकर थोड़ा पानी दिया, लेकिन घाव बहुत गहरा था और उसने दम तोड़ दिया। मैंने इसे अंतिम सांस लेते हुए देखा, यह दर्दनाक था और मुझे पता है कि मैं बहुत रोया था। लेकिन तब याद आया समाधान था। तो मैं हाथ में पक्षी लेकर चावल के कुछ टुकड़े उठाकर भागा और उस जगह के पास बैठ गया जहाँ श्राद्ध की प्रक्रिया की गई थी।
पुजारी जी और पिता जी भी बाहर आ गए और मैं जमीन पर बैठकर उस पक्षी को जीवित करने की कोशिश कर रहा था जहां पूजा की जा रही थी। इससे पुजारी नाराज हो गया।
उसने मुझसे पूछा था “तुम क्या कर रहे हो मरी हुई चिड़िया के साथ- तुम मरे हुए पक्षी के साथ क्या कर रहे हो?”
मैंने जवाब दिया था “मैं इसकी आत्मा को खाना खिला रहा हूं, अगर खाना पसंद आ गया तो चिड़िया जिंदा हो जाएगी- पक्षी की आत्मा को खिलाने की कोशिश कर रहा हूं और अगर खाना पसंद आया तो पक्षी फिर से जीवित रहेगा”
उन्होंने जवाब दिया “बेटा, मरी हुई चिड़िया खाना नहीं खाती, आत्मा खाना नहीं खाती- बेटा, मरे हुए पक्षी खाना नहीं खाते, आत्माएं भी नहीं खाती हैं”
मेरा जवाब था “अगर आत्मा खाना नहीं खाती तो फिर आप मेरे दादा जी और दादी जी को खाना कैसे खाना खिलाओगे, आप तो उनको जानते भी नहीं- अगर आत्मा खाना नहीं खाती तो आप मेरे दादा और दादी को कैसे खिला सकते हैं, आप उन्हें भी नहीं खिला रहे थे, सिर्फ दिखावा कर रहे है”
पुजारी जी बहुत गुस्से में था लेकिन मेरे सवाल का जवाब नहीं दे सके और उस दिन मैंने उसे आखिरी बार देखा। यह आखिरी बार था जब मेरे पिता ने भी श्राद्ध किया था।
हमने अपने बगीचे में चिड़िया को दफना दिया था। #मैत्रेय #रुद्राभयानंद #श्राद्ध #पितृपक्ष #सत्य #विश्वास

Namaskar
I was quite young maybe around 9 years.
Being born in a Hindu family, my family had deep religious belief’s. My father was quite a religious person, who used to follow lots of fasting on Amavasya, Pournami, Ekadashi.He also followed the religious ritual of Shrad(yearly ritual for ancestors).
I could never relate to many of the religious rituals even during that period of time. My thoughts and ways defied superstitions and ignorant ways of the religions. I was known for being rebel in the family.
During one of the Shrad, a priest had come to our house and my father was doing the shrad as per the religious process. It was pretty hot in the morning itself. After the whole process the priest and father came into the house where food items were prepared as offering .
Maybe it was my luck or unluck one of the small sparrows flew in through the window and hit the moving fan. The wing was damaged and it fell on the ground. I had taken the small bird in hand and gave some water, but the wound was severe and it breathed last. I watched it taking the last breath, it was painful and I know I had cried a lot. But then the solution was there. So I ran out with the bird in hand picking up few pieces of rice and sat near the place where the Shrad process was done.
The priest and father also came out and I was sitting on the ground trying to revive the bird near the place were puja was done. This angered the priest.
He had asked me “Tum kya kar rahe ho is mari hui chidiya ke saath-What are you doing with the dead bird?”
I had replied “main iski aatma ko khana khila raha hu, agar khana pasand aa gaya to chidiya zinda ho jayegi- trying to feed the soul of the bird and if the food is liked the bird will live again”
He replied “Beta, mari hui chidiya khana nahi khaati, atma khana nahi khaati- Son, dead birds don’t eat food, souls also don’t eat”
My answer was “Agar aatma khana nahi khaati to fir aap mere dada ji aur dadi ji ko khana kaise khana khilaoge, aap to unko jaante bhi nahi- if soul doesn’t eat food than how can you feed my Paternal grandfather and grandmother, you also don’t them”
Priest was very angry but couldn’t respond to my query and I saw him for last time. It was the last time my father also did Shrad.
We had buried the bird in our garden.
~ Maitreya Rudrabhayananda